नामांकन में प्रत्याशियों का शक्ति प्रदर्शन..


जयपुर। लोकसभा चुनाव को लेकर नामांकन प्रक्रिया के अंतिम दिन बुधवार को जयपुर जिला कलेक्ट्रेट में नामांकन भरने के लिए उम्मीदवारों की भीड़ उमड़ी। अंतिम दिन जयपुर ग्रामीण और जयपुर शहर से दोनों मुख्य पार्टियों के प्रत्याशियों ने अपने नामांकन दाखिल किए। जयपुुर ग्रामीण से कांग्रेस प्रत्याशी अनिल चोपड़ा और भाजपा उम्मीदवार राव राजेंद्र सिंह ने अपना नामांकन पत्र दाखिल किया। इसी तरह जयपुर शहर से भाजपा की मंजू शर्मा और कांग्रेस के प्रताप सिंह खाचरियावास ने अपने नामांकन दाखिल किए। हालांकि यह नामांकन के साथ ही एक तरह का शक्ति प्रदर्शन भी था। जयपुर ग्रामीण के भाजपा उम्मीदवार राव राजेंद्र सिंह ने इस दौरान उन्होंने कहा कि जिन मुद्दों को लेकर जनता के बीच जाएंगे, उन विषयों को वे जल्द ही मीडिया के सामने रखेंगे। इस दौरान खेल एवं उद्योग विभाग के मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने जयपुर शहर सीट के कांग्रेस उम्मीदवार प्रताप सिंह खाचरियावास पर तंज कसा और उन्हें क्रिकेट का नाइट वॉचमैन बताया। जयपुर जिला कलेक्ट्रेट में बुधवार को जयपुर ग्रामीण सीट से भाजपा उम्मीदवार राव राजेंद्र सिंह ने नामांकन पत्र दाखिल किया। इस दौरान उनके साथ खेल मामला और उद्योग मंत्री राज्यवर्धन राठौड़ भी थे। इस दौरान राव राजेंद्र ने कहा कि हमारे लिए राष्ट्र सर्वोपरि है, उसके बाद प्रदेश और उसके बाद जिस लोकसभा क्षेत्र से हम खड़े हैं वह महत्वपूर्ण है। अभी हमारा यही निवेदन है कि जनता को जनप्रतिनिधि से जो अपेक्षा रहती है, उसके अनुरूप आचरण कर हम अपना दायित्व पूरा करें। सबको साथ में लेकर विकास करेंगे। इस दौरान राठौड़ ने कहा जिस तरह से टेस्ट क्रिकेट में अंतिम समय में नाइट वॉचमैन को भेजा जाता है, उसी तरह से प्रताप सिंह खाचरियावास को जबरदस्ती टिकट देकर चुनाव लड़ाया जा रहा है। कांग्रेस की लीडरशिप आज जीरो हो गई है, इसलिए आज उनकी यह हालत हो गई है।   जयपुर शहर में भाजपा की मंजू शर्मा और कांग्रेस के प्रताप सिंह के बीच कांटे की टक्कर राजस्थान के जयपुर की खाचरिया लोकसभा सीट पर भाजपा की ओर से मंजू शर्मा चुनाव मैदान में हैं। वह पहली बार चुनाव लड़ रही हैं। वहीं कांग्रेस के पूर्व मंत्री प्रताप सिंह उन्हें इस सीट पर कड़ी टक्कर देते दिखाई दे रहे हैं। मंजू शर्मा बीजेपी के पूर्व दिग्गज नेता भंवरलाल शर्मा की बेटी हैं, जो पहली बार चुनाव लड़ रही हैं। भाजपा ने अपने मौजूदा सांसद रामचरण बोहरा का टिकट काटकर मंजू शर्मा को मौका दिया है। वहीं कांग्रेस ने इस सीट से 2 बार विधायक रहे प्रताप सिंह पर भरोसा जताया है। प्रताप सिंह एक बार यहां से लोकसभा चुनाव भी लड़ चुके हैं। इस सीट पर मुख्य लड़ाई भाजपा और कांग्रेस की बीच ही है। इसकी वजह अन्य किसी पार्टी का मजबूत वजूद नहीं होना है। मंजू शर्मा के पिता भंवरलाल शर्मा 26 वर्षों तक यहां से विधायक रहे। वह हवा महल से 6 बार विधानसभा के लिए चुने गए थे। उनकी बेटी और कर्मठ भाजपा नेता होने के साथ ब्राह्मण चेहरा होने के नाते मंजू शर्मा को भाजपा ने टिकट दिया है। इस सीट पर ब्राह्मण उम्मीदवार का दबदबा रहा है।    कांग्रेस ने प्रताप सिंह को ऐनवक्त पर उतारा, खुद भी दिखे हैरान  कांग्रेस ने जयपुर शहर की इस सीट से पहले सुनील शर्मा को टिकट दिया था। मगर उनके एक विवादित बयान के चलते कांग्रेस ने आखिर में सुनील का टिकट काट दिया। अब पूर्व मंत्री और 2 बार के विधायक रहे प्रताप सिंह को 2024 का टिकट थमा दिया है। ऐसे में इस सीट पर मुकाबला अब भाजपा बनाम कांग्रेस होने के साथ ब्राह्मण बनाम राजपूत भी हो गया है। मंजू शर्मा ब्राह्मण महिला हैं, जबकि प्रताप सिंह राजपूत पुरुष हैं। ऐसे में दोनों नेताओं के बीच कांटे की टक्कर होनी तय मानी जा रही है।       जयपुर ग्रामीण से अनिल चोपड़ा ने दिखाया दम, एमएसपी लागू करवाने को बताया प्राथमिकता अनिल चोपड़ा ने बुधवार को जयपुर ग्रामीण सीट से कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में लोकसभा चुनाव 2024 के लिए अपना नामांकन दाखिल किया। चोपड़ा नामाकंन दाखिल करने के लिए विधायक प्रशांत शर्मा, विधायक मनीष यादव, और विराटनगर के कांग्रेस के प्रत्याशी इंद्रराज गुर्जर, शकुंतला रावत, गोपाल मीणा सहित कांग्रेसी नेता कार्यकर्ता साथ रहे। नामाकंन से पहले चोपड़ा गोविंद देव जी मंदिर पहुंचे जहां पूजा-अर्चना करने के बाद कांग्रेसी नेताओं के साथ चोपड़ा जयपुर कलेक्ट्रेट नामाकंन दाखिल करने पहुंचे। इस सीट पर बीजेपी प्रत्याशी राव राजेंद्र सिंह और अनिल चोपड़ा के बीच सीधा मुकाबला है। हालांकि यह मुकाबला अनुभव और युवा प्रतिभा के बीच है। अनिल चोपड़ा राजस्थान विश्वविद्यालय से चार संघ अध्यक्ष रह चुके हैं। चोपड़ा नामाकंन दाखिल करने के लिए विधायक प्रशांत शर्मा, विधायक मनीष यादव, और विराटनगर के कांग्रेस के प्रत्याशी इंद्रराज गुर्जर, शकुंतला रावत, गोपाल मीणा सहित कांग्रेसी नेता कार्यकर्ता साथ रहे। चोपड़ा नामाकंन दाखिल करने के लिए विधायक प्रशांत शर्मा, विधायक मनीष यादव, और विराटनगर के कांग्रेस के प्रत्याशी इंद्रराज गुर्जर, शकुंतला रावत, गोपाल मीणा सहित कांग्रेसी नेता कार्यकर्ता साथ रहे।  पुलिस की लाठियां खा कर यहां तक पहुंचा हूं, जनता का मिलेगा आशीर्वाद: चोपड़ा नामांकन के बाद चोपड़ा ने कहा कि मैं जयपुर ग्रामीण की जनता के आशीर्वाद से नामांकन दाखिल कर दिया है। निश्चित रूप से यह देश युवाओं का है। जयपुर ग्रामीण किसान बाहुल्य क्षेत्र है। मैं यहां पर स्थानीय उम्मीदवार हूं मैं पिछले 10 साल में यह किसानों महिलाओं नौजवानों के लिए काम किया है। छात्र राजनीति में छात्रों के लिए संघर्ष करते हुए पुलिस की लाठियां खाकर यहां तक पहुंचा हूं। मैं किसान परिवार से आता हूं मेरी लोकसभा चुनाव में पहली प्राथमिकता किसानों से जुड़े मुद्दे रहेंगे। जिसमें एमएसपी लागू करवाना पहली प्राथमिकता रहेगा। इसके लिए मुझे चाहे हड़ताल करनी पड़े या धरना देना पड़े। साथ ही युवाओं की मांग पर अग्निवीर के खत्म करने के लिए प्रयास करने का दावां किया। चोपड़ा ने अपने सोशल अकाउंट पर ट्वीट कर लिखा कि जयपुर ग्रामीण की देवतुल्य जनता जनार्दन, माता-पिता और परम् पिता परमेश्वर से आशीर्वाद लेकर कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में अपना नामांकन दाखिल किया और सत्ता परिवर्तन के संकल्प के साथ अन्याय और तानाशाही सरकार के खिलाफ आंदोलन को साकार रूप दिया। इधर, राजसमंद से कांग्रेस उम्मीदवार ने टिकट लौटाया, सुदर्शन सिंह रावत बोले- मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा बुधवार को कांग्रेस से एक और खबर सामने आई जब कांग्रेस उम्मीदवार सुदर्शन सिंह रावत ने टिकट लौटा दिया। रावत ने हाईकमान को चिट्ठी लिखकर राजसमंद से चुनाव लडऩे से साफ इनकार कर दिया है। सुदर्शन सिंह रावत ने कहा- मैं राजसमंद से चुनाव नहीं लड़ूंगा। मैंने एक महीने पहले ही मना कर दिया था। मैंने हाईकमान से भी आग्रह कर दिया था। मैं साफ कहने में विश्वास करता हूं। मैं व्यक्तिगत कारणों से चुनाव नहीं लड़ूंगा। सुदर्शन सिंह रावत को 25 मार्च को ही उम्मीदवार घोषित किया था, दो दिन बाद ही उन्होंने टिकट लौटा दिया। अब राजसमंद में कांग्रेस का टिकट बदलना लगभग तय हो गया है।  

Most Read